क्रिकेट और क्रिकेट के इतिहास का परिचय

क्रिकेट का इतिहास - history of cricket

फुटबॉल के बाद क्रिकेट को विश्व का सबसे लोकप्रिय खेल माना जाता है। भारत में तो इस खेल को लोग धर्म की तरह पूजते है। आज क्रिकेट हर किसी के सर पर जुनून की तरह सवार रहता है। इस खेल में 2 टीमें होती है। प्रत्येक टीम के पास दल के रूप में 11 खिलाड़ी होते है जो मैदान पर टीम का प्रतिनिधित्व करते है। अन्य खेलों की तरह ये खेल भी कुछ नियमों के तहत खेला जाता है। इसके साथ ही क्रिकेट का इतिहास क्या है? और क्रिकेट की शुरुआत किस देश से हुई? इस बारे में हर कोई जानना चाहता है।

क्रिकेट का इतिहास

17वीं शताब्दी में क्रिकेट बच्चों का खेल माना जाता था। हालांकि कहा जाता है कि इसकी शुरुआत 16वीं शताब्दी में हो गयी थी। पहला अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैच 1844 में खेला गया था लेकिन आधिकारिक रूप से इंटरनेशनल टेस्ट क्रिकेट 1877 में शुरू हुआ था। शुरुआत में क्रिकेट भेड़ के चारागाह या इसके किनारे खेला जाता था। उस समय भेड़ के ऊन के गोले पत्थर या उलझे हुए ऊन के छोटे गोले को गेंद के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। क्रिकेट की शुरुआत अंग्रेज़ो के देश इंग्लैंड से हुई थी। क्रिकेट के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज़ डॉन ब्रैडमैन को माना जाता है। जिन्होंने अपने करियर में 99 से ज्यादा की औसत से रन बनाए है।

इसे भी पढ़ें:- हॉकी के जादूगर का इतिहास।

भारत में क्रिकेट का इतिहास

भारत में क्रिकेट की शुरूआत सन् 1721 में हुई। इसके बाद ये खेल पूरी तरह से भारत के लोगों के दिलों में शामिल हो गया। जिसके चलते 1928 में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का गठन हुआ। भारत का पहला टेस्ट मैच 1932 में खेला गया। भारत ने अपना पहला टेस्ट क्रिकेट मैच 25 जून से 28 जून तक इंग्लैंड के विरुद्ध लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर खेला था। वहीं भारत ने अपना पहला टेस्ट मैच 1952 में चेन्नई के मैदान पर इंग्लैंड के विरुद्ध जीता जबकि भारतीय टीम के लिए पहली सीरीज जीत 1952 में पाकिस्तान के खिलाफ आयी थी। भारत के पहले टेस्ट कप्तान सीके नायडू थे। मौजूदा समय में टीम इंडिया के पुरुष टीम के कप्तान विराट कोहली है जबकि भारतीय महिला टीम की कप्तान मिताली राज है।

अतंर्राष्ट्रीय क्रिकेट में भारत के रिकॉर्ड

  1. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भारत के सचिन तेंदुलकर के नाम है जिन्होनें इंटरनेशनल क्रिकेट में 34,357 रन बनाए है। इसके अलावा सचिन के नाम 100 अंतर्राष्ट्रीय शतक जड़ने का रिकॉर्ड भी दर्ज है।
  2. भारत 4 आई.सी.सी ट्रॉफी अपने नाम कर चुका है। जिसमें 1983 वर्ड्  कप, 2007 टी-20 वर्ल्ड कप, 2011 वर्ल्ड कप और चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब शामिल है।
  3. वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा व्यक्तिगत रनों का रिकॉर्ड रोहित शर्मा के नाम है जिन्होनें श्रीलंका के खिलाफ 264 रनों की पारी खेली थी। 
  4. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नाम एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा डिसमिसल्स 444 का रिकॉर्ड दर्ज है जिसमें 321 कैच और 123 स्टंप शामिल है।

क्रिकेट के नियम

सामान्य नियमः

  1. हर टीम 11 खिलाड़ियों के साथ मैदान पर उतर सकती है। जबकि दल में 16 खिलाड़ियों को शामिल किया जाता है।
  2. क्रिकेट में निर्णय लेने के लिए मैदान पर 2 अंपायर होते है जबकि एक 3rd अंपायर होता है जो टीवी से निर्णय लेता हैं।
  3. क्रिकेट में बोल्ड, रन आउट, कैच आउट, LBW, हिट विकेट, गेंद को 2 बार मारना, स्टंप आउट, बाधा डालना, टाइम आउट के तहत बल्लेबाज़ आउट हो सकता है।

एकदिवसीय क्रिकेट के नियमः

  1. एकदिवसीय क्रिकेट में 50 ओवर का खेल खेला जाता हैं। प्रत्येक ओवर में 6 बॉल होती हैं। 
  2. वनडे क्रिकेट में एक गेंदबाज को ज्यादा से ज्यादा 10 ओवर करने की अनुमती दी जाती है।
  3. एकदिवसीय क्रिकेट में मैच के टाई होने पर दोनों टीमों को 1-1 अंक दिए जाते है।
  4. वनडे क्रिकेट में डी.आर.एस का इस्तेमाल दोनों टीमें 3-3 बार कर सकती है। 
  5. एक वनडे मैच में तीन पॉवरप्ले होते हैं, जिसमें पहला पॉवरप्ले 10 ओवर का होता है, जिस दौरान फील्डिंग करने वाली टीम के सिर्फ 2 फील्डर ही 30 यार्ड सर्किल के बाहर रह सकते हैं।
  6. दूसरा पॉवरप्ले 11 से 40 के ओवर के बीच लागू होता है, जिसमें फील्डिंग करने वाली टीम के 4 फील्डर ही 30 यार्ड सर्किल के बाहर होते हैं। जबकि आखिरी के 10 ओवरों में फील्डिंग करने वाली टीम को अपने 5 फील्डर 30 यार्ड सर्किल के बाहर रखने की अनुमती होती है।

इसे भी पढ़ें:- कैसे बनाये स्पोर्ट्स में करियर

टेस्ट क्रिकेट के नियमः

  1. टेस्ट क्रिकेट के मैच में ओवर 1 दिन में 90 ओवरों तक का खेल खेला जाता है और इसी हिसाब से पूरे 5 दिनों में 450 ओवर का खेल होता है और इसमें गेंदबाज़ जितने चाहे उतने ओवर इस मैच में डाल सकता है।
  2. टेस्ट मैच में फिल्डिंग पर कोई पाबंदी नही है इसमे टीम जितने चाहे उतने खिलाड़ी बाउंड्री पर और 30 गज के घेरे के अंदर अपनी मर्जी के अनुसार लगा सकती है।
  3. टेस्ट में हर टीम के पास 2-2 डी.आर.एस होते है। जो हर पारी में टीम को दोबारा मिल जाते है। 
  4. टेस्ट क्रिकेट में नॉ बॉल के बाद फ्री हिट का कोई प्रावधान नहीं है।
  5. टेस्ट क्रिकेट में फॉलो ऑन का नियम भी होता है। जिसके तहत अगर विरोधी टीम पहली पारी में बल्लेबाजी करते हुए दूसरी टीम के स्कोर से 200 रन कम बनाती हैं तो अन्य टीम के पास ये विकल्प होता हैं कि वह अपने विरोधी टीम को फिर से बल्लेबाजी करने को कह सकते हैं.।

टी-20 क्रिकेट के नियमः

  1. टी-20 क्रिकेट का खेल 20-20 ओवर के तहत खेला जाता है। 
  2. एक मैच में गेंदबाज 4 ओवर से ज्यादा गेंदबाजी नहीं कर सकता।
  3. टी-20 क्रिकेट में हर पारी तो 75 मिनट के अंदर समाप्त करना अनिवार्य होता है। अगर कोई टीम ऐसे नहीं कर पाती तो उस टीम को 6 रन की पैनलटी भी लग सकती है।
  4. टी-20 क्रिकेट में पहले 6 ओवरों में केवल 2 खिलाड़ी 30 गज के दायरे के बाहर रहेंगे। 6 ओवरों के बाद पाँच खिलाड़ी 30 गज के दायरे के बाहर रखे जा सकते हैं।
  5. यदी कोई मुकाबला टाई हो जाता है तो उस मैच का नतीजा सुपर ओवर के जरिए निकाला जाता है। जिसमें हर टीम को एक-एक ओवर दिया जाता है।

इसे भी पढ़ें:- अनिश्चितकाल के लिए रद्द हुआ आईपीएल का 13वा सीजन

क्रिकेट में करियर

क्रिकेट खेलने की सही उम्र क्या है? – आज के समय में क्रिकेट में करियर बनाना हर कोई चाहता है । सबसे ज्यादा पैसे इसी खेल में है। इस खेल में करियर बनाने के लिए आप अपने स्कूल से इस खेल की शुरुआत करनी होगी। क्रिकेट उम्र के किसी भी पड़ाव से शुरू किया जा सकता है। लेकिन लगातार बढ़ती प्रतियोगिता को देखते हुए 8 साल की उम्र में क्रिकेट की शुरुआत करना सबसे सही माना जा सकता है। 8 साल की उम्र में अकैडमी जॉइन करने के बाद आप राष्ट्रीय स्तर पर खुद को साबित कर सकते है। जो आपके लिए अंतर्राष्ट्रीय टीम का दरवाजा भी खोल सकती है।

इसके बाद आप कॉलेज और अकैडमी से लेकर क्लब क्रिकेट से अपने करियर को रफ्तार दे सकते है। इसके बाद आप स्टेट की टीम में शामिल हो सकते है और घरेलू क्रिकेट खेल कर खुद को साबित कर सकते है, जो आपके लिए अंतर्राष्ट्रीय टीम का रास्ता खोल सकते है।  यदि आपको क्रिकेट का इतिहास पर लिखा हुआ ये ब्लॉग अच्छा लगा तो शेयर जरूर करें।

विकिपीडिया आर्टिकल पढ़ें

Exit mobile version